Author name: Sanatan Gyan

Maa kali Chalisa
Chalisa

Maa kali Chalisa – माँ काली चालीसा

Maa kali Chalisa in Hindi – माँ काली चालीसा हिंदी में ॥दोहा॥ जयकाली कलिमलहरण, महिमा अगम अपार ।महिष मर्दिनी कालिका, देहु अभय अपार ॥ Chalisa Sangrih ॥ चौपाई ॥ अरि मद मान मिटावन हारी ।मुण्डमाल गल सोहत प्यारी ॥ अष्टभुजी सुखदायक माता ।दुष्टदलन जग में विख्याता ॥ भाल विशाल मुकुट छवि छाजै ।कर में शीश […]

Aarti satyanarayan bhagwan ki
Aarti

आरती सत्यनारायण भगवान् की | Aarti satyanarayan bhagwan ki

Aarti satyanarayan bhagwan ki in Hindi- आरती सत्यनारायण भगवान् की हिंदी में जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा ॥रतन जड़ित सिंहासन, अदभुत छवि राजे ।नारद करत नीराजन,घंटा वन बाजे ॥ॐ जय लक्ष्मी रमणा,स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । प्रकट भए कलिकारण, द्विज को दरस दियो ।बूढ़ो ब्राह्मण बनकर, कंचन महल

kuber chalisa
Chalisa

Kuber Chalisa in Hindi and English – कुबेर चालीसा 

Kuber Chalisa in Hindi – कुबेर चालीसा हिंदी में ॥ दोहा ॥ जैसे अटल हिमालय और जैसे अडिग सुमेर ।ऐसे ही स्वर्ग द्वार पै, अविचल खड़े कुबेर ॥विघ्न हरण मंगल करण, सुनो शरणागत की टेर ।भक्त हेतु वितरण करो, धन माया के ढ़ेर ॥ gyansanatan.in ॥ चौपाई ॥ जै जै जै श्री कुबेर भण्डारी ।धन

Aigiri Nandini Lyrics in Hindi
Mantra, Navratri

Aigiri Nandini Lyrics in Hindi- अयिगिरि नन्दिनि श्री महिषासुर मर्दिनि स्तोत्र

Aigiri Nandini Lyrics in Hindi – अयिगिरि नन्दिनि अयिगिरि नन्दिनि स्तोत्र माँ दुर्गा जी को प्रसन्न करने करने का श्लोक है।  इस श्लोक को हम श्री महिषासुर मर्दिनि स्तोत्र के नाम से जानते हैं। आपको बता दे की श्री महिषासुर मर्दिनि स्तोत्र अदि गुरु शंकराचार्य जी ने लिखा है। इस श्लोक का नाम श्री महिषासुर मर्दिनि स्तोत्रम् इसलिए पड़ा क्योंकि

Raksha bandhan 2022 date
festival

Raksha Bandhan 2022 Date – रक्षा बंधन 11 अगस्त को है या 12 अगस्त  

रक्षाबंधन 2022 – Raksha bandhan 2022 Date रक्षा बंधन 2022 में स्थिति असमंजस में है  कि इस बार राखी 11 अगस्त को बंधवाएं या 12 तारीख को। आज हम जानेंगे इस पोस्ट में कि इसके पीछे मुख्य कारण क्या है  रक्षा बंधन क्यों मनाया जाता है रक्षाबंधन का त्यौहार भाई और बहन के आपसी प्रेम

Durga chalisa
Chalisa

Durga Chalisa with meaning – दुर्गा चालीसा अर्थ सहित 

Durga chalisa – दुर्गा चालीसा दुर्गा चालीसा पाठ बहुत ही प्रभावित पाठ  है।  श्री दुर्गा चालीसा का पाठ करने से सभी पापों का नाश होता है और घर में खुशहाली आती है।  नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अम्बे दुख हरनी॥ निराकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूं लोक फैली उजियारी॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल

ram-chalisa
Stuti

shri ram stuti with meaning- राम स्तुति अर्थ सहित 

Shri Ram stuti – श्री राम स्तुति आज हम लोग भगवान् श्री राम को याद करना होता है तो कैसे करते हैं – जय श्री राम, हे राम, रामचंद्र जी की जय. क्या आपको पता है की पुरातन काल में जब श्रीश्री और महर्षि भगवान् राम को कैसे याद करते थे। वो भगवान् राम की स्तुति

Shiv stuti
Stuti

Shiv Stuti with Meaning – शिव स्तुति 

Shiv Stuti – शिव स्तुति दोहा श्री गिरिजापति वंदिकर, चरण मध्य शिरनाय । कहत अयोध्यादास तुम, मोपर होहु सहाय ।। कविता  नन्दी की सवारी नाग अंगीकार धारी नित, संत सुखकारी नीलकंठ त्रिपुरारी हैं । गले मुण्डमाला धारी, सिर सोहे जटाधारी वाम अंग में बिहारी, गिरिजा सुतवारी हैं ।। दानी देख भारी, शेष शारदा पुकारी ।

ambe tu hai jagdambe kali
Aarti

Ambe tu hai jagdambe kali aarti – अम्बे तू है जगदम्बे काली- – (Maa durga ma kali aarti)

अम्बे तू है जगदम्बे काली आरती हिंदी में – Ambe tu hai jagdambe kali aarti अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली । तेरे ही गुण गाये भारती, ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती  तेरे भक्त जनो पर, भीर पडी है भारी माँ । दानव दल पर टूट पडो, माँ करके सिंह सवारी

Shani Chalisa
Chalisa

Shani Chalisa in Hindi with meaning – शनि चालीसा हिंदी में अर्थ सहित 

Shani Chalisa in Hindi – शनि चालीसा हिंदी में ॥ दोहा ॥ जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥  जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज। करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥  ॥चौपाई॥ जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥ चारि भुजा,

Scroll to Top