Home Blog Page 6

श्री गायत्री चालीसा- Shri Gayatri Chalisa

श्री गायत्री चालीसा(Shree Gayatri Chalisa) दोहा जयति जयति अम्बे जयति,यज्ञ गायत्री देवी ।ब्रह्मज्ञान धारनी ह्रदय, आदिशक्ति सुरसेवी ।। चौपाई जयति जयति गायत्री अम्बा । काटहु कष्ट न...
Kaal-Bhairav

श्री काल भैरव चालीसा-Shri kaal Bhairav Chalisa

श्री काल भैरव चालीसा दोहा श्री गणपति गुरु गौरी पद प्रेम सहित धरि माथ।चालीसा वंदन करो श्री शिव भैरवनाथ॥श्री भैरव संकट हरण मंगल करण कृपाल।श्याम...
Rakshabandhan

रक्षाबंधन कब, कैसे और क्यों मनाया जाता है जानिये उसका इतिहास हिंदी में(Rakshabandhan in...

Table of Contents रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है रक्षाबंधन का त्यौहार सावन मास की पूर्णमासी के दिन मनाया जाता है । ऐसा देखा गया...
Nag-Panchami images

Nag Panchami and why it is celebrated (नाग पंचमी in 2021)

नाग पंचमी नाग पंचमी हिंदू पंचांग के अनुसार से सावन मास में शुक्ल पक्ष पंचमी को मनाई जाती है ।इस दिन नाग  को दूध पिलाया...
ram-chalisa

Shri Ram chalisa(राम चालीसा )

दोहा : आदौ राम तपोवनादि गमनं हत्वाह् मृगा काञ्चनंवैदेही हरणं जटायु मरणं सुग्रीव संभाषणंबाली निर्दलं समुद्र तरणं लङ्कापुरी दाहनम्पश्चद्रावनं कुम्भकर्णं हननं एतद्धि रामायणं चौपाई श्री रघुबीर भक्त...
Hanuman chalisa

Hanuman Chalisa (हनुमान चालीसा और उसका महत्व )

Hanuman chalisa - हनुमान चालीसा दोहा : श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार। बल...

Shri krishna janmashtmi in 2021(श्री कृष्णा जन्माष्टमी )

श्री कृष्ण भगवान का जन्म भाद्रपद के कृष्ण पक्ष में अष्टमी तिथि को हुआ । इस दिन रोहिणी नक्षत्र था जो बहुत ही शुभ...
tulsidas-ji-ka-jeevan-parichay

तुलसीदास जी का जीवन परिचय | Tulsidas ji ka jeevan parichay

तुलसीदास जी का जन्म प्रयाग के पास चित्रकूट जिले में राजापुर नामक गाँव में हुआ।  संवत १५५४ में इनका जन्म हुआ और उनका जन्म...
lord-indra-1000-eyes

हिन्दू धर्म में Indra Ki Pooja (इंद्र की पूजा) क्यों नहीं होती? गौतम ऋषि...

इंद्र कौन हैं इंद्र कश्यप ऋषि के पुत्र और देवताओं के राजा हैं। वैसे तो इंद्र एक पदवी  का नाम है और इंद्र के सिंहासन  में बहुत सारे...
hanuman ji

Bajrang Ban – बजरंग बाण

दोहा : निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥ चौपाई : जय हनुमंत संत हितकारी।सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥जन के काज...