मां लक्ष्मी की कृपा बनाए रखने के लिए जरूरी है इस विधि से पूजन, धन-वैभव की नहीं होगी कमी

[ad_1]

Lakshmi Ji: आज के समय में हर व्यक्ति चाहता है कि उसके ऊपर और उसके परिवार पर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहे. इसके लिए वे मां लक्ष्मी की नियमित पूजा करता है. इतना ही नहीं, मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं, ताकि मां उन पर मेहरबान हो सके. लेकिन इन सबके बावजूद भी उन्हें धन-वैभव नहीं मिल पाता. या फिर कई बार आया हुआ पैसा उनके हाथ में नहीं रुकता.

शास्त्रों में इस बात का जिक्र किया गया है कि किसी भी देवी-देवता की कृपा पाने के लिए उनकी पूजा को विधि-विधान के साथ करना जरूरी है. ऐसा ही मां लक्ष्मी के लिए भी है. मान्यता है कि मां लक्ष्मी का वास जहां होता है उस घर में कभी दरिद्रता नहीं आती. आइए जानते हैं मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए सही पूजा की विधि.

मां लक्ष्मी की पूजा के लिए जरूरी पूजन सामग्री

ज्योतिष अनुसार मां लक्ष्मी की पूजा करते समय पूजन सामग्री कुल 33 तरह की चीजों का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें मोली, रोली, सिंदूर, नारियल, अक्षत, लाल वस्त्र, फूल, पांच सुपारी, लौंग, पान के पत्ते, घी, कलश, कलश के लिए आम का पल्लव, चौकी, समिधा, हवन कुण्ड, हवन सामग्री, कमल गट्टे, पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद, गंगाजल), फल, बताशे, मिठाईयां, पूजा में बैठने हेतु आसन, हल्दी, अगरबत्ती, कुमकुम, इत्र, दीपक, रूई, आरती की थाली, कुशा, रक्त चंदन, श्रीखंड चंदन आदि को जरूर शामिल करें.

ग्रंथों में मां लक्ष्मी को शुक्रवार का दिन समर्पित है. मान्यता है कि मां लक्ष्मी की पूजा सफेद और गुलाबी वस्त्र धारण करने के बाद ही करनी चाहिए. साथ ही, उनकी पूजा का उत्तम समय मध्य रात्रि का समय होता है.  इस दिम उनकी प्रतिकृति की पूजा, जिसमें गुलाबी कमल के फूल पर विराजमान होती हैं. उनकी पूजा करना लाभदायक होता है. पूजा के दौरान मां को गुलाबी फूल अर्पित करें. इस दिन मां के मंत्रों का जाप स्फटिक की माला से करना उत्तम होता है.

महामृत्युंजय मंत्र (MahaMrityunjaya Mantra in Hindi)

मां लक्ष्मी पूजन विधि

मां लक्ष्मी के पूजन के दिन घर के पूजा स्थल में साफ-सफाई करें. और मां लक्ष्मी को विराजमान करें. इसके बाद एक कलश की स्थापना करें. कलश में आम के पत्ते डालें. और उसके ऊपर एक नारियल रखें. इसके बाद मां के जल और पान के पत्ते से स्नान कराएं और फिर पंचामृत से स्नान कराएं. इसके बाद एक बार फिर से जल से स्नान कराएं. और मां को इत्र लगाएं. मां को वस्त्र पहनाएं. धूप जलाकर मां को हल्दी, कुमकुम, अक्षत, चंदन और फूल आदि चढ़ाएं. इस दिन मां का हवन करें और फिर आरती करके मां को सफेद रंग की चीज का भोग लगाएं. और उनसे कृपा बनाए रखने की प्रार्थना करें.

श्री गायत्री चालीसा- Shri Gayatri Chalisa

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि gyansanatan.in किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Source – abplive.com

[ad_2]

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here