होली से पहले कब है ‘विनायक चतुर्थी’ का व्रत, जानें डेट, टाइम और व्रत की विधि

[ad_1]

vinayaka chaturthi 2022 : विनायक चतुर्थी का व्रत भगवान गणेश जी को समर्पित है. इस दिन गणेश जी की विशेष पूजा अर्चना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन गणेश जी की पूजा करने से विघ्न दूर होते हैं और जीवन में सुख-समृद्धि आती है. ये पवित्र और महत्वपूर्ण व्रत कब है? जानते हैं.

2022 की गणेश चतुर्थी व्रत कब है?
पंचांग के अनुसार गणेश चतुर्थी का व्रत फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाएगा. कैलेंडर के अनुसार यह तिथि 6 मार्च 2022 को पड़ रही है. इस दिन रविवार का दिन रहेगा.

    • चतुर्थी तिथि का प्रारंभ: 5 मार्च 2022, शनिवार को रात्रि 8 बजकर 35 मिनट से आरंभ होगी.
    • चतुर्थी तिथि का समापन: 6 मार्च 2022, रविवार को रात्रि 9 बजकर 11 पर इस तिथि का समापन होगा.
    • विनायक चतुर्थी शुभ मुहूर्त: 6 मार्च 2022 को प्रात: 11 बजकर 22 मिनट से दोपहर 1 बजकर 39 मिनट तक.

शुभ योग बन रहा है
मान्यता के अनुसार चतुर्थी तिथि की पूजा दोपहर में की जानी चाहिए . 6 मार्च को पंचांग के अनुसार 6 मार्च को रवि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग बना हुआ है. इस योग में किए गए कार्य फलित होते हैं.

पूजा विधि
पौराणिक मान्यता के अनुसार गणेश चतुर्थी की पूजा दोपहर के समय करने का विधान बताया गया है. इस दिन प्रात:काल स्नान के बाद व्रत का संकल्प लें और पूजास्थल को गंगाजल से पवित्र कर पूजा प्रारंभ करें. भगवान गणेश जी को पीले फूलों की माला अर्पित करने के बाद धूप-दीप, नैवेद्य, अक्षत और उनका प्रिय दूर्वा घास अर्पित करें. इसके बाद मिष्ठान या मोदक का भोग लगाएं. अंत में व्रत कथा पढ़कर गणेश जी की आरती करें.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि Gyansanatan.in किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Source – ABPLIVE.com

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here