August 2021

Purvajanm story of Ravan
Stories

जय और विजय जो बाद में बना रावण हिरण्याक्ष और हिरणकश्यप

रावण के पूर्वजन्म की कहानी (Purvajanm story of Ravan) Table of Contents रावण पिछले जन्म में कौन था? रावण का पहला अवतार था या फिर इसके पहले और कोई अवतार हुआ था ? क्या वह देवता था गन्धर्व था या फिर नर आईये जानेंगे इस लेख में । जय और विजय कौन थे आदिकाल की […]

Chalisa

श्री गायत्री चालीसा- Shri Gayatri Chalisa

श्री गायत्री चालीसा(Shree Gayatri Chalisa) दोहा जयति जयति अम्बे जयति,यज्ञ गायत्री देवी ।ब्रह्मज्ञान धारनी ह्रदय, आदिशक्ति सुरसेवी ।। चौपाई जयति जयति गायत्री अम्बा । काटहु कष्ट न करहु बिलम्बा ।।तव ध्यावत विधि विष्णु महेशा । लहत अगम सुख शांति हमेशा ।। तू ही ब्रह्मज्ञान उर धारिणी । जग तारिणी मगमुक्ति प्रसारिणी ।।जन तन संकट नाशनि

Kaal-Bhairav
Chalisa

श्री काल भैरव चालीसा-Shri kaal Bhairav Chalisa

श्री काल भैरव चालीसा दोहा श्री गणपति गुरु गौरी पद प्रेम सहित धरि माथ।चालीसा वंदन करो श्री शिव भैरवनाथ॥ श्री भैरव संकट हरण मंगल करण कृपाल।श्याम वरण विकराल वपु लोचन लाल विशाल॥ चौपाई जय जय श्री काली के लाला। जयति जयति काशी- कुतवाला॥जयति बटुक- भैरव भय हारी।जयति काल- भैरव बलकारी॥ जयति नाथ- भैरव विख्याता। जयति

Rakshabandhan
festival

रक्षाबंधन कब, कैसे और क्यों मनाया जाता है जानिये उसका इतिहास हिंदी में(Rakshabandhan in Hindi)

Table of Contents रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है रक्षाबंधन का त्यौहार सावन मास की पूर्णमासी के दिन मनाया जाता है । ऐसा देखा गया की यह त्यौहार अगस्त के महीने में ही आता है कभी अगस्त महीने के शुरुवात में कभी मध्य में । इस बार रक्षाबंधन 22 अगस्त दिन रविवार को है

Nag-Panchami images
festival

Nag Panchami and why it is celebrated (नाग पंचमी in 2021)

नाग पंचमी नाग पंचमी हिंदू पंचांग के अनुसार से सावन मास में शुक्ल पक्ष पंचमी को मनाई जाती है ।इस दिन नाग  को दूध पिलाया जाता है ।नाग भगवान् शंकर के आभूषण हैं । नाग पंचमी के दिन लोग नाग की पूजा करते हैं और अपने घर की दीवार में आकृति बनाते हैं। जो भी

ram-chalisa
Chalisa

Shri Ram chalisa(राम चालीसा )

दोहा : आदौ राम तपोवनादि गमनं हत्वाह् मृगा काञ्चनंवैदेही हरणं जटायु मरणं सुग्रीव संभाषणं बाली निर्दलं समुद्र तरणं लङ्कापुरी दाहनम्पश्चद्रावनं कुम्भकर्णं हननं एतद्धि रामायणं चौपाई श्री रघुबीर भक्त हितकारी ।सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी ॥निशि दिन ध्यान धरै जो कोई ।ता सम भक्त और नहिं होई ॥ ध्यान धरे शिवजी मन माहीं ।ब्रह्मा इन्द्र पार

Hanuman chalisa
Chalisa

Hanuman Chalisa (हनुमान चालीसा और उसका महत्व )

Hanuman chalisa – हनुमान चालीसा दोहा : श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार। बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। चौपाई जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।जय कपीस तिहुं लोक उजागर।। रामदूत अतुलित बल धामा।अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।। महाबीर बिक्रम बजरंगी।कुमति निवार सुमति के संगी।। कंचन

festival

Shri krishna janmashtmi in 2021(श्री कृष्णा जन्माष्टमी )

श्री कृष्ण भगवान का जन्म भाद्रपद के कृष्ण पक्ष में अष्टमी तिथि को हुआ । इस दिन रोहिणी नक्षत्र था जो बहुत ही शुभ मन जाता है। कृष्ण जन्माष्टमी व्रत के महत्व(Importance of Krishna janmashtmi) इस दिन व्रत रखने वाले लोगो के ऊपर भगवान् विष्णु की बहुत कृपा होती है । जो भी भक्त इस

Scroll to Top